सच्चा मुसलमान वह होता है जिसके दिल में सब के लिये प्यार और इज़्ज़त होती है और जो किसी भी तरह की तशद्दूद (violence) और इंतेहा पसंद (Extremist) को बढ़ावा नहीं देता है. वही इस्लाम में बताया गया है की सबके साथ अच्छा सुलूक किया करो, बल्कि सही मायनों में...
लखनऊ, 21 अगस्त (भाषा) अयोध्या में राम मंदिर निर्माण कार्य में तेजी के बीच धन्नीपुर में मस्जिद के निर्माण के लिए गठित इंडो इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन (आईआईसीएफ) अधिक वित्तीय सहयोग जुटाने के वास्ते पहली बार बाकायदा कार्य योजना तैयार कर रहा है। उच्चतम न्यायालय के निर्देश पर अयोध्या के धन्नीपुर...
शिहाब चित्तूर देश के आखरी छोर केरल के मलप्पुरम ज़िले के कोट्टक्कल के पास अठावनाड नामक इलाक़े के रहने वाले हैं . एक दौर था जब लोग हज का सफर पैदल तय किया करते थे लेकिन आज के वक़्त में ये मुमकिन नही. लेकिन आज हम आपको ऐसे ही शख्स...
कोरोना की वजह से 2 साल से बंद हज सफर शुरू. दिल्ली से आज रात से फ्लाइट्स शुरू हो जाएंगी. केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा है कि कोरोना महामारी की वजह से दो साल बाद हज 2022 सफर हो रहा है. इस बार लगभग 50 हज़ार...
सऊदी अरब में इस बार ईद-उल-फितर का चांद आज 1 मई को दिखने की उम्मीद थी लेकिन अब सऊदी अरब की कमेटी ने एलान कर दिया है कि शनिवार को चांद का दीदार नहीं हुआ है। ऐसे में 30 दिन का रमज़ान पाक संडे 1 मई को पूरा होगा...
देशभर में ईद-उल-फितर 3 मई को मनाई जाएगी. दिल्ली की शाही जामा मस्जिद के शाही इमाम सैय्यद शाबान बुखारी ने कहा कि आज शव्वाल का चांद नहीं दिखा है. लिहाजा कल 30वां रोजा है. उन्होंने कहा कि अब देशभर में ईद 3 मई को मनाई जाएगी.  उधर लखनऊ मरकज़ी चांद कमेटी फिरंगी...
-ज़कात, ग़रीबी के स्तर को सुधार सकती है: मुफ्ती शमशसुल हक़ मिस्बाही - गरीबों और वंचितों के लिए शिक्षण संस्थान बनाने में हो सकता है ज़कात का इस्तेमाल: मुफ्ती अतीक़ अहमद बस्तावी नई दिल्ली: देश के पहले ज़कात आधारित क्राउडफंडिंग प्लेटफॉर्म इंडिया ज़कात डॉट कॉम, एसोसिएशन ऑफ मुस्लिम प्रोफेशनल (एएमपी) और...
अम्मान में धूल भरी सड़क पर सफ़र करते हुए, हो सकता है कि हिजाज़ रेलवे स्टेशन आपकी नज़रों से ओझल हो जाए. वहां पहुंचने के लिए, आपको शहर की घुमावदार सड़कों को भी नज़रअंदाज करना होगा, जो कि किसी भूलभुलैया से कम नहीं हैं और शहर के ऐतिहासिक केंद्र, पहाड़ों...

Eid Ul Azha

0
Eid-ul-Azha, the greater Eid, which follows the completion of the annual Hajj pilgrimage, at the time of Qurbani (sacrifice). Although Eid-ul-Azha has no direct relation to the Hajj Pilgrimage, it is but a day after the completion of Hajj and therefore has significance in time. The day of Eid-ul-Azha falls on the tenth day in...
Mina: After spending around 12 hours on the plains of Arafat on Monday for the most important part of Hajj, 60,000 people went to Muzdalifah and after spending night there, where they collected pebbles to stone Devils ,they reach Mina to perform the final stages of this year’s pilgrimage...

Follow us

0FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest news

Sahaafi News